Ma

ये है अबीर की कहानी

ये है अबीर की कहानी

मैं हूँ अबीर
थोड़ा सा छोटा
और थोड़ा सा नटखट
पर बहुत समझदार
और प्यारा सा बच्चा हूँ।
ऐसा माँ कहती है।
जब माँ काम पर जाती है
तब मैं कभी नहीं रोता।
जब माँ किताबों से बाते करती है
तब मैं कभी नहीं तंग करता
जब माँ थक जाती है
तब मैं माँ के पास आ कर बैठ जाता हूँ
और माँ कितनी भी थकी हो
हमेशा मेरा ख्याल रखती है
कभी मेरी कहनियाँ सुनती है
तो कभी मुझे कहनियाँ सुनाती है
मैं जानता हूँ मेरे पास है
मेरी सबसे प्यारी माँ

Latest Posts

Coat ka kissa

कुछ   पांच या छः  साल पहले का किस्सा रहा होगा।  बड़े शौक से मैंने आपने बड़े बेटे के लिए एक कोट ख़रीदा।  स्कूल के स्टेज पर कोई प्रोग्राम था जहां जा कर कुछ बोलना था।  जनाब कोट पैंट पहन कर शीशे के सामने खड़े आपने को घंटो निहारते रहे ,फिर बोले – ” मैं तोContinue reading “Coat ka kissa”

Something for Hindi

हिंदी पर गर्व करना ,ये वाक्य मेरे लिए उतना ही अद्भुत है जितना संसार में  पेड़ो  का  हरे होना या आकाश का नीला होना। मैं  तो सदैव हिंदी की ही रही हूँ और हिंदी कभी भी मेरे लिए भाषा तो रही नहीं।  मेरी अभिव्यक्ति ,भाव ,तनाव,हास्य  और रूचि तो हिंदी ही रही और रहेगी  भी।Continue reading “Something for Hindi”

Loading…

Something went wrong. Please refresh the page and/or try again.

Follow Me

Get new content delivered directly to your inbox.

%d bloggers like this: