Ma

ये है अबीर की कहानी

ये है अबीर की कहानी

मैं हूँ अबीर
थोड़ा सा छोटा
और थोड़ा सा नटखट
पर बहुत समझदार
और प्यारा सा बच्चा हूँ।
ऐसा माँ कहती है।
जब माँ काम पर जाती है
तब मैं कभी नहीं रोता।
जब माँ किताबों से बाते करती है
तब मैं कभी नहीं तंग करता
जब माँ थक जाती है
तब मैं माँ के पास आ कर बैठ जाता हूँ
और माँ कितनी भी थकी हो
हमेशा मेरा ख्याल रखती है
कभी मेरी कहनियाँ सुनती है
तो कभी मुझे कहनियाँ सुनाती है
मैं जानता हूँ मेरे पास है
मेरी सबसे प्यारी माँ

Latest Posts

The power of serving

Living synergistically in society has been an integral part of human civilization since its existence of humanity. Undoubtedly, for the smooth functioning of a happy and healthy community, people need to work together for a purpose. That single purpose of giving back to society can come up with many name tags such as volunteering, social … Continue reading The power of serving

Hindi poem for mother : ma mei kuch badi ho gayi hu

माँ , अब मैं  बड़ी   हो गयी हूँ माँ , अब मैं  बड़ी   हो गयी हूँ कुछ नटखट से बदल कर बड़ी समझदार हो गयी हूँ कुछ तुम जैसी हो गयी हूँ तो कुछ अपने  जैसी रह गयी हूँ। माँ , अब मैं  बड़ी   हो गयी हूँ जानती हूँ डर लगता है तुमको जब सोचती … Continue reading Hindi poem for mother : ma mei kuch badi ho gayi hu

Hindi Magic Words

If someone say to you that they can’t speak or write Hindi ,show them Hindi Magic . First, ask them do they know English alphabets and numbers. If yes,ask them to write three minus one on a paper. Now put a roof on top. Horary! here this turns into first letter of hindi अ (a). … Continue reading Hindi Magic Words

Loading…

Something went wrong. Please refresh the page and/or try again.

Follow Me

Get new content delivered directly to your inbox.